मोटीवेशनल और नए स्टेटस, motivational morning status, motivational love status, motivational in hindi, indiandiary, love diary, morning diary, status diary
मोटिवेशन डायरी स्टेटस डायरी

मोटीवेशनल और नए स्टेटस, Lover और सोशल मीडिया पोस्ट के लिए

मोटीवेशनल और नए स्टेटस:

मुझ को उन सच्ची बातों से अपने झूट बहुत प्यारे हैं
जिन सच्ची बातों से अक्सर इंसानों का ख़ून बहा है

.

ग़लती नीम की नहीं कि वो कड़वा है
ख़ुदगर्ज़ी जीभ की है, जिसे मीठा पसंद है

.

ऐसा नहीं है कि अब तेरी जुस्तजू नहीं रही,
बस टूट-टूट कर बिखरने की हिम्मत नहीं रही…

.

धोखे इतने खा लिए हैं हमने अपनी जिंदगी में
हुनरमंद हो गए हैं अब किरदार पहचानने में

मोटीवेशनल और नए स्टेटस 

.

उदास लम्हों की न कोई याद रखना
तूफ़ान में भी वजूद अपना संभाल रखना,
किसी की ज़िंदगी की ख़ुशी हो तुम
बस यही सोच तुम अपना ख्याल रखना।

.

सिखा ना सकी जो उम्र भर तमाम किताबें मुझे,
फिर करीब से कुछ चेहरे पढ़े और ना जाने कितने सबक सीख लिए।

.

जो मुंह तक उड़ रही थी अब लिपटी है पाँव से
बारिश क्या हुई मिटटी की फितरत बदल गई

.

कदर करलो उनकी जो तुमसे बिना मतलब की चाहत करते है
दुनिया में ख्याल रखने वाले कम और तकलीफ देने वाले ज्यादा होते है

.

लोगों का दिल अगर बेनकाब होता, तो सोचो कितना फसाद होता !

न कोई मरता बेमतलब मतलबी दुनिया में , न जिहाद होता !!

मोटीवेशनल और नए स्टेटस 

sportswear-athletic-beach- indiandiary

प्यार के दो मीठे बोल से खरीद लो मुझे
दौलत दिखाई तो सारे जहाँ की कम पड़ेगी

.

यूँ तो मोहब्बत की सारी हकीक़त से वाकिफ है हम,
पर तुमने देखा तो सोचा चलो ज़िन्दगी बर्बाद कर ही लेते है.।

.

उनकी नज़रो में फर्क अब भी नही,
पहले मुड़ के देखते थे, अब देख के मुड़ जाते है।

.

अपने हिसाब से जिंदगी जिओ लोगो की सोच का क्या ??
चाय में मक्खी गिरे तो चाय को फेंक देते है
और देसी घी में गिरे तो मक्खी को..

.

नादानियां झलकती है अभी भी मेरी आदतो से “मैं खुद हैरान हूँ…
मुझे इश्क़ हुआ कैसे ।”…✍

.

ख़ुदा बदल न सका आदमी को आज भी यारो,,,
और अब तक आदमी ने सैकड़ों ख़ुदा बदल डाले

मोटीवेशनल और नए स्टेटस 

.

तहरीर में सिमटते हैं कहां दिलों के दर्द
बहला रहा हूं खुद को ज़रा कागज़ों के साथ ..

.

आज भी मेरे बदन से आती है तेरे सांसो की महक
की तेरे बाद किसी को सिने से लगाया नहीं हमने

.

लोग अकसर अपनी खूबियों का दिखावा करते हैं,
मैं तो खुद की कमियों से मशहूर होना पसन्द करता हुँ..

.

ताज्जुब न कीजियेगा गर कोई दुश्मन भी आपकी खेरियत पूछ जाये
ये वो दौर है जहाँ हर मुलाक़ात में मकसद छुपे होते हें

.

मैंने पूछा मोहबत कितनी करती हो तुम मुझसे
मुस्करा के बोली पागल खुशबू के पैमाने नहीं होते

.

नामुमकिन सी एक “ख्वाहिश” पाल ली,
झूठी स्याही से “सच्च” लिखने की ठान ली |

मोटीवेशनल और नए स्टेटस 

.

दस्तख़त खुद किये हमने दर्द के कागजातों पे,
बुजुर्गों ने तो समझाया था इश्क़ मत करना…

.

गलतफहमियों के सिलसिले इतने दिलचस्प हैं
हर ईंट सोचती है दीवार मुझ पर टिकी है

.

रखा करो नजदीकियां ज़िन्दगी का कुछ भरोसा नहीं
फिर मत कहना चले भी गए और बताया भी नहीं

.

साँसें तेज़ थी और क़लम चली थी धीरे,
जज़बात का पहला ख़त कुछ यूँ लिखा था मैंने !!

.

ज़िंदगी में प्यार क्या होता, उस शख़्स से पूछो
जिसने दिल टूटने के बाद भी इन्तज़ार किया हैं

.

हो सकती है जिंदगी में मोहब्बत दोबारा भी
बस हौंसला चाहिए फिर से बर्बाद होने का

.

दुनिया आपके उदहारण से बदलेगी आपकी ” राय ” से नही…!

.
आसमां पे ठिकाने, किसी के नहीं होते, जो ज़मीं के नहीं होते, वो कहीं के नहीं होते…!!

मोटीवेशनल और नए स्टेटस 

.

तेरी मोहब्बत कि तलब थी तो हाँथ जोड़ दिये हमने
वरना हम तो अपनी जिन्दगी के लिए भी दुआ नही मागते

.

मुझे पत्थर बनाने में उसका बड़ा हाथ है
जिसे मैं कभी फ़ूल दिया करता था

 .

क़सूर ना उनका है ना मेरा हम दोनों रिश्तों की रस्में निभाते रहे !!
वो दोस्ती का एहसास जताते रहे हम मोहब्बत को दिल में छुपाते रहे !!

.

“बक्श देता है ‘खुदा’ उनको,
जिनकी ‘किस्मत’ ख़राब होती है…
वो हरगिज नहीं ‘बक्शे’ जाते है,
जिनकी नियत खराब होती है…”

.
न मेरा एक होगा, न तेरा लाख होगा,
न तारिफ तेरी होगी, न मजाक मेरा होगा.
गुरुर न कर “शाह-ए-शरीर” का,………..
मेरा भी खाक होगा, तेरा भी खाक होगा !!!

मोटीवेशनल और नए स्टेटस 

.

वो आदत थी, बिगड़ गयी !
मै नाम था, बदनाम हो गया !!

वो नशा थी, वो उतर गई!
मै होश था, जो जारी रहा !!

वो ख्वाहिश थी, अधूरी रही !
मै जज्बात था, बाकी रहा !!

वो मंजिल थी, मयस्सर हुयी!
मै रास्ता था, गुज़र गया !!

वो आंधी थी, गुज़र गयी !
मै पेड़ था, टूट गया !!

वो मंजिल थी, मिली ही नहीं !
मै रास्ता था, भटकता ही रहा !!

मैं शायर था, लिखता रहा !
वो ग़ज़ल थी, बिकती रही !!

और अंत में चलते-चलते ये सुविचार :

सफलता एक दिन में नही मिलती, मगर ठान लो तो एक दिन जरूर मिलती है ।

think-outside-the-box-unique-concept.. indiandiary

====================================================================

Shayari for Romance, Ishq, Mohabbat, रोमाटिक Love शायरी

Comments
Vidyarthi Shivam Yadav

“मित्रो जब दौकौडी के अनपढ़ गुंडे में इतना Attitude होता है तो हम सब तो हिंदुत्व और जस्टिस के पुजारी है……इसलिए शान से जिओ, याद रखो खुद से बड़ा कोई तुर्रमखान नहीं……और देशद्रोहियों की बजाते रहो… जय हिन्द, जय माँ भारती !! Page Like कर या यहाँ मेरी ID पर जरुर जुड़ें:-

https://www.facebook.com/iamshivamyadav

Leave a Reply

Your email address will not be published.