काला पानी या सेलुलर जेल के खतरनाक रोचक तथ्य

काला पानी या सेलुलर जेल के खतरनाक रोचक तथ्य
काला पानी या सेलुलर जेल के खतरनाक रोचक तथ्य

काला पानी इस जेल का नाम सुनते ही कैदियों की रूह कांप जाती थी। अंग्रेजों के समय की सबसे खतरनाक जेलों में से एक थी। वर्ष 1857 में सिपाही विद्रोह के तुरंत बाद, अंग्रेजों ने अंडमान और निकोबार के द्वीपों का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया, ताकि विद्रोहियों को सलाखों के पीछे रखा जा सके। अंग्रेजों ने 1857 का विद्रोह दबाने के लिए कई क्रातिकारियों को मार डाला या आजीवन कारावास की सजा सुना कर इस जेल में कैद कर दिया। इस जेल में आने वाले सैकड़ों विद्रोही जेलर डेविड बैरी और सैन्य चिकित्सक मेजर जेम्स पैटीसन वॉकर की हिरासत में रहे। काला पानी या सेलुलर जेल के खतरनाक रोचक तथ्य  काला पानी या सेलुलर जेल के खतरनाक रोचक तथ्य  

मार्च 1868 में जेल से भागने की कोशिश करने वाले 238 कैदियों को अप्रैल में पकड़ लिया गया था जिनमें से 87 को फांसी दी गई थी। औपनिवेशिक शासन के खिलाफ आवाज उठाने वाले कई देशभक्तों को दोषी ठहराया गया और उन्हें ब्रिटिश-नियंत्रित भारत और बर्मा से हटा दिया गया। साल 1942 जापानियों ने अंडमान द्वीप समूह में ब्रिटिशों सेना को हराकर उन्हे द्वीपों से बाहर निकाल दिया। इस दौरान नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने अंडमान का दौरा किया था। बता दें कि 1945 में ‘द्वितीय विश्व युद्ध’ की खत्म हो जाने के बाद अंग्रेजों ने फिर से द्वीपों पर नियंत्रण कर लिया।

  1. इस जेल को अंग्रेजों ने 1896-1906 के बीच भारत की आजादी के विद्रोहियों को बंद करने के मकसद से बनवाया था। ये जेल भारत के अंडमान निकोबार द्वीप समूह के पोर्ट ब्लेयर में स्थित है।
  2. इस जेल को काला पानी इस लिए कहा जाता है कि क्योंकि इस जेल के चारों तरफ समुन्द्र था और कोई भी कैदी भाग नहीं सकता था , भागने का मतलब सीधे मौत थी और सजा का मतलब भी मौत ही थी।
  3. इस जेल को प्रयोग मुख्यतः अंग्रेजों द्वारा भारत की आजादी संघर्ष के दौरान राजनीतिक कैदियों को दूरस्थ द्वीपसमूह में निर्वासित करने के लिए किया गया था।
  4. इसी जेल में वीर सावरकर और बटूकेश्वर दत्त जैसे महान क्रांतिकारी कैद रहे।
  5. दूसरे बिश्व युद्ध के समय साल 1942 में इस जेल पर जापानी सैनिकों ने कब्जा कर लिया था और इस जेल में कई ब्रिटिश सैनिकों को कैदी भी बनाया गया था।
  6. कालापानी जेल ब्रिटिशों द्वारा भारतीय राजनीतिक कैदियों की दुःख भरी कहानी को बयाँ करता है। कैदियों से यहां पर बिना पानी भोजन और पानी के बिना के काम करवाया जाता था।
  7. सेलुलर जेल एशिया की सबसे बड़ी जेलों में से थी लेकिन आज यह एक प्रसिद्ध राष्ट्रीय स्मारक है।
  8. सेलुलर जेल का मुख्य आकर्षण इसका संग्रहालय है, जो जेल जीवन और महान भारतीय राजनीतिक कैदियों की कहानी को प्रदर्शित करता है।
  9. इस जेल में आप इससे जुडी ऐतिहासिक घटनाओं को दिखाने वाले ध्वनि और प्रकाश शो भी देख सकते हैं।
  10. कालापानी जेल ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के दौरान भारतीय इतिहास के सबसे काले अध्यायों में से एक माना जाता है। जिसका जिक्र आज भी देशप्रेमियों को बहुत दुःख पहुंचाता है।

यह भी जरूर पढे :

एड्स दिवस पर जानिए एड्स के नाम पर फैले हुए भ्रम, पढे

Comments

comments