जिन्ना और पाकिस्तान.. क्या इतिहास दोबारा 1947 तो नहीं दोहरा रहा?

जिन्ना और पाकिस्तान indiandiary

जिन्ना और पाकिस्तान.. क्या इतिहास दोबारा 1947 तो नहीं दोहरा रहा?

पाकिस्तान बनना जिन्ना की 1 दिन की मेहनत का काम नहीं था…….

जिन्ना की सोच 1942 में पहली बार उजागर हुई कि हमें भी मुस्लिम देश चाहिए…

और अंदर ही अंदर वह इस सोच को हकीकत में बदलने की पूरी कोशिश करते रहे जिसमें गांधी और नेहरू ने उनका पूरा
साथ दिया..

1947 मैं उन्होंने अपना सपना हकीकत में बदल.. दिया

जिन्ना और पाकिस्तान

आज 70 साल बाद कुछ कांग्रेस के गद्दार नेता और मुस्लिम नेताओं मैं जिन्ना की सोच दोबारा पैदा हो गई है

वह आतंकवादियों का भी समर्थन कर रहे हैं और

पाकिस्तान का भी समर्थन कर रहे हैं

शरिया कानून का भी समर्थन कर रहे हैं

मुस्लिम देश का भी समर्थन कर रहे हैं

और आज भी उनका साथ कांग्रेस की पार्टी ही दे रही है

क्या इतिहास दोबारा 1947 तो नहीं दोहरा रहा

हमें कांग्रेस का पूर्ण बहिष्कार करना चाहिए.
देशद्रोह मतलब देशद्रोह
गद्दार मतलब गद्दार

??भारत माता की जय ??

Read More:-

जिन्ना और पाकिस्तान

HALALA IS OFFENCE- Kahani Ek Halala and Rape Pidita Ki

Shivling truth in Hindi:- शिवलिंग को गुप्तांग की संज्ञा कैसे दी?

Comments

comments