आखिर क्यों दिन भर रहती है थकान, जाने यहां उसका कारण

आखिर क्यों दिन भर रहती है थकान, जाने यहां उसका कारण
आखिर क्यों दिन भर रहती है थकान, जाने यहां उसका कारण

आज कल की भागदौड़ भरी जिंदगी में अक्सर हम थकान की शिकायत करते हैं। सुबह सुबह ही हमें ऐसा लगता हैं कि पता नहीं कितना काम हमने कर लिया हो। कई जब हम बहुत ज्यादा शारीरिक श्रम नहीं करते, लेकिन अक्सर थकान की शिकायत रहती है। इस तरह की थकान किसी को भी हो सकती है। शारीरिक और मानसिक थकान अलग-अलग है। कई बार ये दोनों स्थितियां एक साथ हो सकती हैं। लंबे समय तक शारीरिक थकान रहे, तो वह मानसिक थकान का कारण बन सकती है। इसे नजरअंदाज करना सेहत के लिए नुकसानदायक होता है। दिन भर रहती है दिन भर रहती है

थकान का सबसे बड़ा कारण नींद पूरी न होना बताया जाता हैं। जिसको डॉक्टरी भाषा में क्रोनिक फैटीग सिंड्रोम कहा जाता है। यह ऐसी स्थिति है जो छह महीने या इससे अधिक समय तक बिना किसी साफ संकेत के रह सकती है। इसका असर याददाश्त पर पड़ सकता है। थकान का कोई इलाज नहीं होता, इसलिए इसके लक्षणों का इलाज किया जाता है।

थकान की मुख्यतः दो स्थितियाँ होती हैं —

1. शारीरिक थकान: इस स्थिति में एक व्यक्ति उन कामों को करने में कठिनाई महसूस करता है, जो वह अमूमन आसानी से कर लेता था जैसे सीढ़ियां चढ़ना। स्ट्रैंथ टेस्ट से इसका कारण पता लगाने की कोशिश की जा सकती है। वैसे मांसपेशियों की कमजोरी के कारण ऐसा होता है।

2.मानसिक थकान: इस स्थिति में इन्सान ध्यान केंद्रीत नहीं कर पाता है। फोकस वाले कामों को करने में परेशानी आती है। ऐसे लोग हमेशा उनींदा महसूस करते हैं या काम करते समय जागने में कठिनाई हो सकती है।

थकान के कारण

1. मानसिक समस्या : ज्यादा तनाव होना ,अत्यधिक मात्रा में नशा करना , चिंता करना, बोरियत या तलाक के कारण या समय पर नींद न आने के कारण ऐसा होता हैं।

2. दिल और फेफड़ों की स्थिति: निमोनिया, अस्थमा, क्रॉनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (सीओपीडी), वाल्वुलर हार्ट डिजीज, कोरोनरी हार्ट डिजीज, कंजेस्टिव हार्ट फेल्योर, एसिड रिफ्लक्स और इंफ्लेमेटरी बाउल डिजीज जैसे हार्ट, फेफड़े और पाचन संबंधी बीमारियों के कारण भी थकान महसूस होती है।

3. नींद की कमी: रात में लेट तक तक काम करना , शिफ्ट में काम करना , ट लैग, स्लीप एपनिया, नार्कोलेप्सी और रिफ्लक्स एसोफैगिटिस के कारण नींद नहीं आती है और थकान महसूस हो सकती है।

4. पुराना दर्द : कई बार कोई बहुत पुरानी चोट के कारण उसका दर्द रह जाता है या जिंदगी में कुछ ऐसा हो जाता है कि जीवन दर्द भरा हो जाता हैं तो वो रात में सोते कम है जिससे वे आमतौर पर थके हुए लगते हैं। दर्द और नींद की कमी के डबल अटैक के कारण थकान बनी रहती है। कुछ बीमारियों का मुख्य लक्षण दर्द होता है, जैसे फाइब्रोमायल्जिया और इसका संबंध स्लीप एपनिया से होता है। इससे थकान के लक्षण और भी बिगड़ जाते हैं।

5. ज्यादा या कम वजन होना : अधिक वजन के कारण विभिन्न कारणों से थकान का खतरा बढ़ जाता है। इनमें शामिल है – शरीर के अधिक वजन को यहां से वहां ले जाने में जोड़ों और मांसपेशियों पर अधिक दबाव पड़ता है। वहीं कम वजन वाले व्यक्ति भी अपनी स्थिति के कारण आसानी से थक सकते हैं। भोजन संबंधी विकार, कैंसर, पुरानी बीमारी, और ओवरएक्टिव थायराइड के कारण अत्यधिक थकान हो सकती है।

यह भी जरूर पढे :

रोजान की सेक्स लाइफ से हो गए हो बोर तो अपनाएं ये टिप्स

Comments

comments