बहुत गहरी बात- ऐसी कविता जो हम सभी को सोचने पर मजबूर कर देगी

dargah, mazar, maszid poem, बहुत गहरी बात, indiandiary

गहरी बात लिख दी है किसी नें :-

 

 

बेजुबान पत्थर पे लदे है करोडो के चादरे मस्जिदों में ।
उसी दहलीज पे एक रूपये को तरसते नन्हे हाथो को देखा है।।

?सजे थे छप्पन भोग और मेवे मूरत के आगे।
बाहर एक फ़कीर को भूख से तड़प के मरते देखा है।।???

?लदी हुई है रेशमी चादरों से वो हरी मजार।
पर बाहर एक बूढ़ी अम्मा को ठंड से ठिठुरते देखा है।।???

बहुत गहरी बात

 

?वो दे आया एक लाख गुरद्वारे में हॉल के लिए।
घर में उसको 500 रूपये के लिए काम वाली बाई को बदलते देखा है।।???

?सुना है चढ़ा था सलीब पे कोई दुनिया का दर्द मिटाने को।
आज चर्च में बेटे की मार से बिलखते माँ बाप को देखा है।।????

?जलाती रही जो अखन्ड ज्योति देसी घी की दिन रात पुजारन।
आज उसे प्रसव में कुपोषण के कारण मौत से लड़ते देखा है।।???

?जिसने न दी माँ बाप को भर पेट रोटी कभी जीते जी।
आज लगाते उसको भंडारे मरने के बाद देखा है।।???

?दे के समाज की दुहाई ब्याह दिया था जिस बेटी को जबरन बाप ने।
आज पीटते उसी शौहर के हाथो सरे राह देखा है।।

बहुत गहरी बात

 

?मारा गया वो पंडित बे मौत सड़क दुर्घटना में यारो।
जिसे खुद को काल, सर्प, तारे और हाथ की लकीरो का माहिर लिखते देखा है।।

?जिसे घर की एकता की देता था जमाना कभी मिसाल दोस्तों।
आज उसी आँगन में खिंचती दीवार को देखा है।।

?बन्द कर दिया सांपों को सपेरे ने यह कहकर।
अब इंसान ही इंसान को डसने के काम आएगा।।

?आत्म हत्या कर ली गिरगिट ने सुसाइड नोट छोडकर।
अब इंसान से ज्यादा मैं रंग नहीं बदल सकता।।

?गिद्ध भी कहीं चले गए लगता है उन्होंने देख लिया कि।
इंसान हमसे अच्छा नोंचता है।।

?कुत्ते कोमा में चले गए, ये देखकर।
क्या मस्त तलवे चाटते हुए इंसान देखा है।।

इस कविता को मैने आप तक पहुंचाने मे र्सिफ उंगली का उपयोग किया है।। आगे बढ़ाने वाले को सादर प्रणाम- ??

बहुत गहरी बात

 

 

Read More:-

दहेज की बारात (काका हाथरसी) की बेहतरीन कविता, दहेज़ पर कविता

लेती नहीं दवाई “माँ”, जोड़े पाई-पाई “माँ”, माँ पर सबसे बेहतरीन कविता

पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हास्य कविता, सभी शादी शुदा लोगो को सप्रेम भेंट

Comments

comments