पंजाब के लाल, लाला लाजपत राय के अनमोल विचार

पंजाब के लाल लाला लाजपत राय के अनमोल विचार
पंजाब के लाल लाला लाजपत राय के अनमोल विचार

भगत सिंह के प्रेरणास्रोत लाल-बाल-पाल जोड़ी के लाला लाजपत राय की आज पुण्य तिथि हैं। उनको हम पंजाब केसरी के नाम से भी जानते है और उन्हीं के नाम पर पंजाब केसरी अखबार शुरू हुआ। लाला जी ने कहा था कि मेरे ऊपर पड़ी एक एक लाठी अंग्रेजी सरकार के ताबूत में कील का काम करेगी। कुछ वैसा ही हुआ भी। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में गरम दल के तीन प्रमुख नेताओं लाल-बाल-पाल में से एक थे । पढिए लाला लाजपत राय के अनमोल विचार

  1. ना व्यर्थ है, जब तक उस अतीत पर गर्व करने योग्य भविष्य के निर्णाण के लिए कार्य न किया जाए ।
  2. दूसरों पर विश्वास न रखकर स्वंय पर विश्वास रखो. आप अपने ही प्रयत्नों से सफल हो सकते हैं क्योंकि राष्ट्रों का निर्माण अपने ही बलबूते पर होता है ।
  3. नेता वह है जिसका नेतृत्व प्रभावशाली हो, जो अपने अनुयायियों से सदैव आगे रहता हो, जो साहसी और निर्भीक हो।
  4. वास्तविक मुक्ति दुखों से निर्धनता से, बीमारी से, हर प्रका की अज्ञानता से और दासता से स्वतंत्रता प्राप्त करने में निहित है।
  5. पूरी निष्ठा और ईमानदारी के साथ शांतिपूर्ण साधनों से उद्देश्य पूरा करने के प्रयास को ही अहिंसा कहते हैं।
  6. पराजय और असफलता कभी-कभी विजय की और जरूरी कदम होते हैं।
  7. सार्वजनिक जीवन में अनुशासन को बनाए रखना बहुत ही जरूरी है, वरना प्रगति के मार्ग में बाधा खड़ी हो जायेगी।
  8. देशभक्ति का निर्णाण न्याय और सत्य की दृढं चट्टान पर ही किया जा सकता है।
  9. इंसान को सत्य की उपासना करते हुए सांसारिक लाभ पाने की चिंदा किए बिना साहसी और ईमानदार होना चाहिए।
  10. वह समाज कदापि नहीं टिक सकता जो आज की प्रतियोगिता और शिक्षा के समय में अपने सदस्यों को प्रगति का पूरा-पूरा अवसर प्रदान नहीं करता है।

यह भी जरूर पढे :

रहस्यमयी झील जो इंसान को बना देती है पत्थर ,पढे क्या है राज

Comments

comments