अभय देयोल का परिचय और उनके शानदार डायलॉग
अभय देयोल का परिचय और उनके शानदार डायलॉग

अभय देयोल  का जन्म 15 मार्च 1976 में मुंबई में हुआ था। अभय निर्माता और निर्देशक अजीत सिंह देओल के पुत्र हैं। इनकी माता का नाम उषा देओल है। उनके चाचा प्रसिद्ध अभिनेता धर्मेंद्र हैं और अभिनेता सनी देओल, बॉबी देओल और अभिनेत्री ईशा देओल उनके चचेरे भाई-बहन हैं।

फ़िल्मी परिवार से होने कारण अभय भी अपने चाचा और कजिन भाईयोँ की तरह बॉलीवुड में अपना करियर बनाना चाहते थे। उन्होंने अपने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था कि, मेरी फिल्मों में अभिनय करने की इच्छा बचपन से थी लेकिन मै उससे पहले एक्टिंग से जुडी हर बारीकी को पूरी तरह सीखना चाहता था।

अभय के करियर की टर्निंग पॉइंट फिल्म देव डी। इस फिल्म ने उनके अभिनय ने उन्हें बॉलीवुड में एक नई पहचान दिलाई। अभय अभिनय के अलावा निर्माता भी है। इस के बाद वह मल्टीस्टारर फिल्म ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा में फरहान अख्तर और ऋतिक रोशन संग नज़र आये। जिसने बॉलीवुड के बोज़ ऑफिस पर कमाई के नए आयाम स्थापित कर दिए।  साल 2013 में आई फिल्म रांझणा में अभय देओल की उम्दा अदाकारी देख दर्शक समेत आलोचक भी हतप्रभ रह गए
प्रसिद्ध फ़िल्में
आइशा, ज़िंदगी ना मिलेगी दोबारा ,देवडी ,हनीमूंस ट्रेवल्स लिमिटेड ,आहिस्ता-आहिस्ता,सोच ना था, रांझणा। 

 

  1. Duniya aurat chalati hai … aadmi toh bas chalta hai
  2. Yeh the mantally sick ho chuka hai
  3. Hum ladte hai toh sirf isliye … taaki baad mein ek doosre ko mana sake
  4. Cigarette aur dost … dono filter hone chahiye
  5. Mumbai … suna tha aadmi yahan poori zindagi apni kismat slow track se fast track laane mein nikaal deta hai
  6. Main seedhe sadhe dhang se kehta hoon apni baat … ek ghar basana chahta hoon main tumhare saath … kya dogi mere haathon mein bolo tum apna haath
  7. Kadam sambhal ke chalna toh subah bajegi khushiyon ki shehnai … varna phir tu, tera takiya, aur teri tanhai
  8. Yeh duniya bati hui hai dharam ke naam par, desh ke naam par, rang ke naam par, jaat ke naam par … par yeh woh sarhaden hai jise insaan ne kheenchi hui hai … lekin in sabse upar hai woh jise insaan ne nahi uparwaale ne banaya hai … pyar

READ MORE:

Comments

comments