आखिर क्यों मनाई जाती है बकरीद और शानदार ईद के शुभकामनाएं सन्देश
आखिर क्यों मनाई जाती है बकरीद और शानदार ईद के शुभकामनाएं सन्देश

सोमवार 12 अगस्त को ईद उल अजहा का त्योहार पूरे देश में धूमधाम से मनाया जा रहा है. बकरीद के दिन पशु की कुर्बानी का खास महत्व बताया गया है. कहा जाता है कि अल्लाह की राह में इस दिन कुर्बानी करने वाले शख्स के जीवन में बरकत आती है. इस्लाम धर्म में बकरे की कुर्बानी को सुन्नत माना गया है.

बकरीद पर कुर्बानी को लेकर इस्लाम में कहा जाता है कि हजरत इब्राहिम अलैय सलाम (इस्लामिक गुरु) के घर काफी मन्नतों के बाद बेटा पैदा हुआ. उनका नाम इस्माइल रखा गया. हजरत को अपने बेटे स्माइल से बेहद प्रेम है. एक रात अचानक हजरत इब्राहिम के सपने में खुदा का सपना आया और उनकी सबसे प्यारी चीज की कुर्बानी मांगी.

कुर्बानी से पहले हजरत इब्राहिम ने आंखों पर काली पट्टी बांध ली जिससे उन्हें दुख न हो. लेकिन जैसे ही उन्होंने छुरी बेटे की गर्दन पर चलाई, वह खुद ब खुद एक दूंबे यानी भेड़ पर चल गई. कहा जाता है उस दिन अल्लाह ने हजरत इब्राहिम के सब्र की परीक्षा ली थी. बस तभी से बकरीद का त्योहार मनाया जा रहा है.

अगर आप भी अपने परिवार, रिश्तेदार और करीबियों को बकरीद मुबारक कहने जा रहे हैं कि हम आपके लिए लाए हैं ईद उल अजहा 2019 को भेजे जाने वाली शानदार फेसबुक, व्हाट्सएप फोटो मैसेज शायरी.

1. मुबारक हो आपको खुदा की दी हुई यह जिंदगी, खुशियों से भरी रहे आपकी यह जिंदगी, गम का साया कभी आप पर ना आए दुआ है यह हमारी, आप सदा यूं ही मुस्कराएं, ईद मुबारक

2. सूरज की किरणें, तारों की बहार, चांद की चांदनी अपनों का प्यार… आपका हर पर हो खुशहाल, मुबारक हो आपको बकरीद का त्यौहार

3. पानी झलकता है, फूल महकता है, और हमारा दिल तड़पता है, आपको बकरीद मुबारक कहने के लिए

4. चुपके से चांद की रोशनी छू जाए आपको, धीरे से ये हवा कुछ कह जाए आपको… दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से, हम दुआ करते हैं वो मिल जाए आपको

5. आगाज ईद है, अंजाम ईद है, सच्चाई पे चलो तो हर गम ईद है… जिसने भी रखे रोजे, उन सबके लिए अल्लाह की तरफ से इनाम ईद है

6. चुपके से चांद की रौशनी छू जाए आपको
धीरे से ये हवा कुछ कह जाए आपको
दिल से जो चाहते हो मांग लो खुदा से
हमारी दुआ हैं इस ईद वो मिल जाए आपको

7. ऐ चांद उनको मेरा ये पैग़ाम कहना
ख़ुशी का दिन और हंसी की शाम कहना
जब देखें वो तुझे
मेरी तरफ से उनको ईद मुबारक़

8. ईद आई तुम न आए क्या मजा है ईद का
ईद ही तो नाम है इक दूसरे की दीद का

9. ईद का दिन है गले आज तो मिल ले जालिम
रस्म ए दुनिया भी है मौका भी है दस्तूर भी है

10. फूलों की तरह हंसते रहो, भंवरों की तरह गुनगुनाओ
अल्‍लाह का हो नाम लबों पर, जमकर ये ईद मनाओ

READ MORE:

इस्लाम में जातिवाद- category system in islam in hindi

Comments

comments