1. पूछते थे ना कितना प्यार है तुम्हे हम से,लो अब गिन लो… बारिश की ये बूँदें।

  2. तुमको बारिश पसंद है मुझे बारिश में तुम,तुमको हँसना पसंद है मुझे हस्ती हुए तुम,तुमको बोलना पसंद है मुझे बोलते हुए तुम,तुमको सब कुछ पसंद है और मुझे बस तुम।

  3. कहीं फिसल न जाऊं तेरे ख्यालों में चलते चलते,अपनी यादों को रोको मेरे शहर में बारिश हो रही है।

  4. बरस रही थी बारिश बाहर,,और वो भीग रहा था मुझ में।

  5. काश कोई इस तरह भी वाकिफ होमेरी जिंदगी से,कि मैं बारिश में भी रोऊँ औरवो मेरे आँसू पढ़ ले।

  6. बारिश में आज भीग जाने दो,बूंदों को आज बरस जाने दो,न रोको यूँ खुद को आज,भीग जाने दो इस दिल को आज।

  7. ये मौसम भी कितना प्यारा है,करती ये हवाएं कुछ इशारा है,जरा समझो इनके जज्बातों को,ये कह रही हैं किसी ने दिल से पुकारा है।

  8. गर मेरी चाहतों के मुताबिक,जमाने की हर बात होती,तो बस में होता तुम होती,और सारी रात बरसात होती।

  9. अब भी बरसात की रातों में बदन टूटता है,जाग उठती हैं अजब ख़्वाहिशें अंगड़ाईयों की।

  10. हम भीगते हैं जिस तरह से तेरी यादों में डूबकर,इस बारिश में कहाँ वो कशिश तेरे ख्यालों जैसी।

  11. ये ही एक फर्क है तेरे और मेरे शहर की बारिश मेंतेरे यहाँ ‘जाम’ लगता है, मेरे यहाँ ‘जाम’ लगते हैं।

  12. पीने से कर चुका था मैं तौबा दोस्तों,बादलों का रंग देख नियत बदल गई।

  13. बरिश का यह मौसम कुछ याद दिलाता है,किसी के साथ होने का एहसास दिलाता है,फिजा भी सर्द है यादें भी ताज़ा हैं,यह मौसम किसी का प्यार दिल में जगाता है।

  14. ऐ बारिश जरा थम के बरस,जब वो आ जाये तो जम के बरस,पहले न बरस के वो आ न सके,फिर इतना बरस के वो जा न सके।

  15. क्या मस्त मौसम आया है,हर तरफ पानी ही पानी लाया है,तुम घर से बाहर मत निकलना,वरना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं,और मेढक निकल आया है।

Comments

comments