1. नज़रे करम मुझ पर इतना न कर, की तेरी मोहब्बत के लिए बागी हो जाऊं, मुझे इतना न पिला इश्क़-ए-जाम की,मैं इश्क़ के जहर का आदि हो जाऊं।

  2. हमें सीने से लगाकर हमारी सारी कसक दूर कर दो, हम सिर्फ तुम्हारे हो जाऐ हमें इतना मजबूर कर दो।

  3. अपनी कलम से दिल से दिल तक की बात करते होसीधे सीधे कह क्यों नहीं देते हम से #प्यार करते हो।

  4. घायल कर के मुझे उसने पूछा,करोगे क्या फिर मोहब्बत मुझसे,लहू-लहू था दिल मेरा मगरहोंठों ने कहा बेइंतहा-बेइंतहा।

  5. नहीं है अब कोई जुस्तजू इस दिल में ए सनम,मेरी पहली और आखिरी आरज़ू बस तुम हो।

  6. खड़े-खड़े साहिल पर हमने शाम कर दी,अपना दिल और दुनिया आप के नाम कर दी,ये भी न सोचा कैसे गुज़रेगी ज़िंदगी,बिना सोचे-समझे हर ख़ुशी आपके नाम कर दी।

  7. मेरे होंठो पर लफ्ज़ भी अब तेरी तलब लेकर आते हैं,तेरे जिक्र से महकते हैं तेरे सजदे में बिखर जाते हैं।

  8. हम तो तेरी आवाज़ से प्यार करते हैं,तस्सवुर में तेरे तन्हाइयों से प्यार करते हैं,जो मेरे नाम से तेरे नाम को जोड़े ज़माने वाले,उन चर्चों से अब हम प्यार करते हैं।

  9. ऐसा क्या बोलूं कि तेरे दिल को छू जाए,ऐसी किससे दुआ मांगू कि तू मेरी हो जाए,तुझे पाना नहीं तेरा हो जाना है मन्नत मेरी,ऐसा क्या कर दूं कि ये मन्नत पूरी हो जाए।

  10. क्या चाहूँ रब से तुम्हें पाने के बाद,किसका करूँ इंतज़ार तेरे आने के बाद,क्यों मोहब्बत में जान लुटा देते हैं लोग,मैंने भी यह जाना इश्क़ करने के बाद।

  11. भूल जाता हूँ मैं सबकुछ आपके सिवा, यह क्या मुझे हुआ है,क्या इसी एहसास को दुनिया ने इश्क़ का नाम दिया है।

  12. आ के मेरी साँसों में बिखर जाओ तो अच्छा होगा,बन के रूह मेरे जिस्म में उतर जाओ तो अच्छा होगा,किसी रात तेरी गोद में सिर रख के सो जाऊं,फिर उस रात की कभी सुबह ना हो तो अच्छा होगा।

  13. लोग कहते हैं उसको खुदा की इबादत है,ये मेरी समझ में तो एक जहालत है,रात जाग के गुजरे, दिल को चैन न आए,जरा बताओ दोस्तों क्या यही मोहब्बत है।

Comments

comments