1. मेरा रेशा-रेशा मुझमें तेरे होने की गवाही देता है,क्या कम है कि मुझे हर जगह बस तू ही दिखाई देता है।

  2. होने लगीं दुआएं मुकम्मल मेरी,आदत हुईं हैं मेरी अदाएं तेरी,आँखों ही आँखों से वो दिल के पास होने लगे,जो थे कल तक अनजाने अब ख़ास होने लगे।

  3. वो एक अजनबी है मगर रूह सनास लगता है,मेरी तरह मुझे वो भी उदास लगता है,करूँ तलाश तो हो शक वजूद पर उसके,जो आँखें बंद करूँ तो आस-पास लगता है।

  4. वो मुझसे इतनी मोहब्बत जताने लगा है,कभी-कभी तो मुझे खौफ आने लगता है।

  5. तू मोहब्बत नहीं इबादत है मेरी,तू जरुरत नहीं जीने की आदत है मेरी,बन गया हूँ तेरी यादों का कैदी,अब तो बस तू ही जमानत है मेरी।

  6. कुछ यूँ तुम मोहब्बत का आगाज़ कर दो,मेरी ज़िन्दगी में प्यार का एहसास भर दो,छुप-छुप के देखा करो दूर से हमें,गुजरो करीब से और नजर-अंदाज़ कर दो।

  7. जन्म जन्म जो साथ निभाए,तुम ऐसा बंधन बंध जाओ,मैं बन जाऊं प्यार भरा दिल,तुम दिल की धड़कन बन जाओ।

  8. तुझसे हारूं तो जीत जाता हूँ,तेरी खुशियाँ अज़ीज हैं इतनी।

  9. दिल में है जो बात होंठों पे आने दे,मुझे जज्बातों की लहरों में खो जाने दे,आदी हो चुका हूँ मैं तेरी निगाहों का, अपनी निगाहों के समंदर में डूब जाने दे।

  10. अपने प्यारे से दिल में आशियाना बनाने दे,मुझे अपनी ज़ुल्फों के साए में सो जाने दे,साँसों की खुशबू मेरी साँसों में समाने दे,तेरे दिल को मेरे दिल के राज बताने दे।

  11. बारिश की तरह कोई बरसता रहे मुझ पर,मिट्टी की तरह मैं भी महकती चली जाऊं।

  12. एक ख़लिश सी रह गयी दिल में,मुझ जैसा इश्क़ करता, मुझ से भी कोई!

  13. भटक जाते हैं लोग अक्सरइश्क़ की गलियों में,इस सफर का कोई इकनक्शा तो होना चाहिए।

  14. इश्क ने हमसे कुछ ऐसी साजिशें रची हैं,मुझमें मैं नहीं हूँ अब बस तू ही तू बसी है।

Comments

comments