Home हिंदी कविता

हिंदी कविता

Hindi Kavita for all movements

Emotional Romantic Shayari, Romantic Shayari on Love:-     एक पल का एहसास बनक......र आते हो तुम, दूसरे ही पल खुश्बू की तरह.... उड जाते हो तुम, जानते हो तन्हाइयों से डर.... लगता है हमे, फिर भी तन्हा...... छोड़ जाते हो तुम!! Husband Romantic Shayari on Love आपकी धड़कन से है.... रिश्ता हमारा, आपकी सांसो से है.... नाता...
इस कविता के अंत में कोई कसम नहीं है क्योंकि ये कविता इतनी अच्छी है आप खुद शेयर किये बिना नहीं रह पाओगे :- माँ पर सबसे बेहतरीन कविता : लेती नहीं दवाई "माँ", जोड़े पाई-पाई "माँ"। दुःख थे पर्वत, राई "माँ", हारी नहीं लड़ाई "माँ"। माँ पर सबसे बेहतरीन कविता   इस दुनियां में सब...
शायद उस दिन, जो हिन्दू होगा एक बार जरुर पढ़ेगा, बहुत कडवी सच्चाई? भारतीय सभ्यता के हो रहे नाश पे इससे बेहतर पंक्तियाँ हो ही नहीं सकती शेयर करना न भूलें :- शायद उस दिन...! मेरे परदादा संस्कृत और हिंदी जानते थे। माथे पे तिलक और सर पर पगड़ी बाँधते थे।। फिर मेरे दादा...
"हर उस बेटे को समर्पित जो घर से दूर है" *बेटे भी घर छोड़ जाते हैं😔 😔 जो तकिये के बिना कहीं...भी सोने से कतराते थे... आकर कोई देखे तो वो...कहीं भी अब सो जाते हैं... खाने में सो नखरे वाले..अब कुछ भी खा जाते हैं... अपने रूम में किसी को...भी नहीं आने देने वाले... अब...
श्री कृष्णा के जन्मदिवस पर बहतरीन कविता, Shrikrishna Poem:- प्रेम का सागर लिखूं! या चेतना का चिंतन लिखूं! प्रीति की गागर लिखूं,  या आत्मा का मंथन लिखूं! रहोगे तुम फिर भी अपरिभाषित, चाहे जितना लिखूं.... ज्ञानियों का गुंथन लिखूं , या गाय का ग्वाला लिखूं.. कंस के लिए विष लिखूं , या भक्तों का अमृत प्याला लिखूं। रहोगे तुम फिर...
दहेज की बारात (काका हाथरसी) की बेहतरीन कविता, दहेज़ पर कविता:- हास्यावतार स्वर्गीय श्री काका हाथरसी जी को श्रद्धांजली दहेज की बारात (काका हाथरसी) आप भी पढ़कर आनंद उठाएं...   जा दिन एक बारात को मिल्यौ निमंत्रण-पत्र, फूले-फूले हम फिरें, यत्र-तत्र-सर्वत्र, यत्र-तत्र-सर्वत्र, फरकती बोटी-बोटी, बा दिन अच्छी नाहिं लगी अपने घर रोटी, कहं 'काका' कविराय, लार म्हौंड़े...
दहेज पर कविता दहेज की बारात आप भी पढ़कर आनंद उठाएं, Dahej par poem:-   हास्यावतार स्वर्गीय श्री काका हाथरसी जी को श्रद्धांजली दहेज की बारात (काका हाथरसी) आप भी पढ़कर आनंद उठाएं... जा दिन एक बारात को मिल्यौ निमंत्रण-पत्र, फूले-फूले हम फिरें, यत्र-तत्र-सर्वत्र, यत्र-तत्र-सर्वत्र, फरकती बोटी-बोटी, बा दिन अच्छी नाहिं लगी अपने घर रोटी, कहं...
पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट! हास्य कविता :- पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हास्य कविता एक दिन दफ्तर से घर आते हुए पुरानी गर्ल फ्रेंड से भेट हो गयी, और जो बीवी से मिलने की जल्दी थी वह ज़रा से लेट हो गयी; जाते ही बीवी ने आँखे दिखाई, -आदतानुसार हम पर...
गहरी बात लिख दी है किसी नें :-     बेजुबान पत्थर पे लदे है करोडो के चादरे मस्जिदों में । उसी दहलीज पे एक रूपये को तरसते नन्हे हाथो को देखा है।। ?सजे थे छप्पन भोग और मेवे मूरत के आगे। बाहर एक फ़कीर को भूख से तड़प के मरते देखा है।।??? ?लदी हुई है...
Raam navmi kavita, मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम पर कविता:-    मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम का जन्म हर्षोल्लास के साथ मनाएं, जन्मदिन की ख़ुशी में प्रस्तुत:-   "राम जी ने जनम लियो आज, अवध में देखो सखी ख़ुशी मिलके मनाएं सभी आज अवध में देखो सखी। राम जी ने... सारे जगत को तारन आए, दुखियों के दुख हरने...
Masoom bachchiyon ke balatkar par Hindi Poem:-   माँ मेरा # कसूर नही था________ एक चाचू से चॉकलेट ही तो ली थी .. __________________ # बाबा सा वो लगता था !! मुझे बोला तुम # बेटी हो मेरी !! _________________ उसके पहलू मे बैठ गई मै .. चॉकलेट खाती , बाते करती .. _________________हाथ मेरे सर पर...
*हास्य कविता* फनी पोएम अक्ल बाटने लगे विधाता ! पढ़ें और शेयर कर ओरो को हसायें :-  ??????? अक्ल बाटने लगे विधाता, लंबी लगी कतारी । सभी आदमी खड़े हुए थे, कहीं नहीं थी नारी । सभी नारियाँ कहाँ रह गई, था ये अचरज भारी । पता चला ब्यूटी पार्लर में, पहुँच गई थी सारी। फनी पोएम अक्ल बाटने लगे...

Get in touch

50,640FansLike
1,254FollowersFollow
242FollowersFollow

पॉपुलर पठित लेख ⇓