Home हिंदी कविता Hindi Love Poems Dard Bhari Shayari poem in Hindi, दर्द लाइन्स इन पोएम

Dard Bhari Shayari poem in Hindi, दर्द लाइन्स इन पोएम

Dard Bhari Shayari poem in Hindi
शेयर जरुर करे :-
  • 460
  • 66
  •  
  •  
  •  
  •  
    526
    Shares

Dard Bhari Shayari poem in Hindi :-

Dard Bhari Shayari poem in Hindi

 

 

वो प्यार का सबूत दिखाया करता था,
आँसू बहा कर मुझे मनाया करता था!

यह ज़िंदगी सिर्फ़ तुमसे वाबस्ता है,
अक्सर यह बात मुझे बताया करता था!

उसकी बातों में कुछ ऐसा असर था,
मैं बारिश के बिना ही भीग जाया करता था!

सोने की फ़ुर्सत किस को थी,
वो मुझे सारी रात जगाया करता था!

बेचैनी जब हद से बढ़ जाती थी,
वो जी भर के गले लगाया करता था!

वो इतनी मोहब्बत करने वाला बदल गया,
जो साथ निभाने की कसम खाया करता था!!

तलाश कर मेरी कमी को अपने दिल में ए यार,
दर्द हो तो समझ लेना की मोहब्बत अब भी बाकी है!!

हद से बढ़ जाये ताल्लुक तो ग़म मिलते हैं,
हम इसी वास्ते अब हर शख्स से कम मिलते हैं!!

==================================

ऐ दिल न रख उम्मीदे वफ़ा किसी परिंदे से,
जब पर निकल आते है तो अपने भी आशियाँ भूल जाते है!!

तुम हमे जान पाते तुम्हे इतनी फुर्सत कहाँ थी,
और हम तुम्हे भूल पाते हममे इतनी जुर्रत कहाँ थी!!

===============================

Dard Bhari Shayari poem in Hindi

 

 

दिल थाम कर जाते हैं हम राहे-वफा से,
खौफ लगता है हमें तेरी आंखों की खता से,
जितना भी मुनासिब था हमने सहा हुजूर,
अब दर्द भी लुट जाए तुम्हारी दुआ से।

हम तो बुरे नहीं हैं तो अच्छे ही कहाँ हैं,
दुश्मन से जा मिले हैं मुहब्बत के गुमां से,
वो दफ्न ही कर देते हमें आगोश में लेकर,
ये मौत भी बेहतर है जुदाई की सजा से।

================================

याद -ऐ -माझी

यूं ही आज याद -ऐ -माझी ने रुला दिया है मुझे
मौत से भी पहले ज़िन्दगी ने सुला दिया है मुझे

पास रह के भी मेरे दोस्त क्यों हैं दूर
इसी सोच ने अंदर तक हिला दिया है मुझे

बिछड़े हुए यारों की याद आई है इतनी
इन यादों की तपीश ने जला दिया है मुझे

बीती हुए यादों को खुरचने की कोशिश ने
हंसी , ख़ुशी , ज़िन्दगी सब कुछ भुला दिया है मुझे

जब कभी हँसते है तो आंखें छलक पड़ती हैं
यूं ग़मो ने आँसूओ से मिला दिया है मुझे

सुना है आज कल वो परेशान रहती है

उससे कहना बे -फ़िक्र मैं भी नहीं हूँ

सुना है वो गुमसुम रहती है
उससे कहना हाज़िर जहाँ मैं भी नहीं हूँ

सुना है वो रातों को जागा करती है
उससे कहना सोते हम भी नहीं है

सुना है वो चुप चुप के रोती है
उससे कहना हँसता मैं भी नहीं हूँ

सुना है वो मुझे याद बुहत करती है
उससे कहना भूला मैं भी नहीं हूँ

Dard Bhari Shayari poem in Hindi

 

 

===============================

Read More:-

Dard Bhari Shayari poem in Hindi

 


शेयर जरुर करे :-
  • 460
  • 66
  •  
  •  
  •  
  •  
    526
    Shares

Comments

comments