Senti Status In Hindi
Senti Status In Hindi

रचनाकार की भावुकता एवं संवेदनशीलता या यूँ कह लीजिए कि उसकी चेतना और अपने आस-पास की दुनिया को देखने एवं एहसास करने की कल्पना-शक्ति से ही साहित्य में हँसी-ख़ुशी जैसे भावों की तरह उदासी का भी चित्रण संभव होता है । उर्दू क्लासिकी शायरी में ये उदासी परंपरागत एवं असफल प्रेम के कारण नज़र आती है । अस्ल में रचनाकार अपनी रचना में दुनिया की बे-ढंगी सूरतों को व्यवस्थित करना चाहता है,लेकिन उसको सफलता नहीं मिलती । असफलता का यही एहसास साहित्य और शायरी में उदासी को जन्म देता है । यहाँ उदासी के अलग-अलग भाव को शायरी के माध्यम से आपके समक्ष पेश किया जा रहा है । Senti Status In Hindi

1. “बहुत अजीब है यह बंदिशें मोहब्बत की कोई किसी को बहुत टूट कर चाहता है, और कोई किसी को चाह कर टूट जाता है।”

2. “जाने क्यों दुनियां में ऐसा होता है, जो सब को ख़ुशी दे, वही क्यों रोता है, उम्र भर जो साथ ना दे सके वही ज़िंदगी का पहला प्यार क्यों होता है।”

3. “मेरे दिल के दर्द को किसने देखा है, मुझे बस मेरे खुदा ने तड़पते देखा है, हम तन्हाई में बैठे रोते हैं, लोगों ने हमे महफ़िल में हँसते देखा है।”

4. “आँसुओं की आवाज़ कुछ और होती है, दूरियों की आग कुछ और होती हैं, कौन चाहता है तुम से दूर रहना, मगर मज़बूरियों की बात कुछ और होती है।”

5. “किसी की चाहत में इतने पागल न हो हो सकता है वो आपकी मंज़िल न हो उसकी मुस्कुराहट को मोहब्बत न समझना हो सकता है मुस्कुराना उसकी आदत ही हो।”

6. “दर्द को न देखिये दर्द से दर्द को भी दर्द होता है, दर्द को भी ज़रुरत है प्यार की आखिर प्यार में दर्द ही तो हमदर्द होता है।”

7. “हँसी ने लबों पर आना छोड़ दिया ख्वाबों ने पलकों पे आना छोड़ दिया आती नहीं हैं तब से हिचकियाँ भी आप ने जब से याद करना छोड़ दिया।”

8. “दूरियों से फर्क पड़ता नहीं बात तो दिलों की नज़दीकियों से होती है दोस्ती तो कुछ आप जैसों से है वरना मुलाकात तो जाने कितनों से होती है।”

9. “दिल तोड़ना शायद उनकी आदत सी हो गयी है, वरना वो तो फूल भी नहीं तोड़ते थे आज हमसे दूर-दूर से रहते हैं वो एक वक़्त था जब साथ नहीं छोड़ते थे वो!”

10. “अपनी तो ज़िन्दगी है अजीब कहानी है, जिस चीज़ को चाहा वो चीज़ ही बेगानी है, हँसते भी है तो दुनिया को हँसाने के लिए वरना दुनिया डूब जाये इन आखों में इतना पानी है।”

11. “कुछ अलग था कहने का अंदाज़ उनका कि सुना भी कुछ नहीं और कहा भी कुछ नहीं कुछ इस तरह बिखरे उनके प्यार में हम कि टूटा भी कुछ नहीं और बचा भी कुछ नहीं।”

12. “दूरियां ही दोस्तों को नजदीक लाती हैं दूरियां ही एक दूजे की याद दिलाती हैं दूर रहकर करीब है दोस्त कितना दूरियां ही इस बात का एहसास दिलाती हैं।”

13. “अपनी बेबसी पर आज रोना आया दूसरों को क्या मैंने तो अपनों को भी आजमाया हर दोस्त की तन्हाई हमेशा दूर की मैंने लेकिन खुद को हर मोड़ पर हमेशा अकेला पाया।”

READ MORE :

Comments

comments