Facts about Sanatana Dharma, Geeta Shlok, Ramayan & Devi Devta, indiandiary

Facts about Sanatana Dharma, Geeta Shlok, Ramayan & Devi Devta:- 

                  मित्रो अरबों-करोड़ों सालों से चल रहे सनातन धर्म के बिरुद्ध षड्यंत्रों ने बहुत सी भ्रांतियों को जन्म दे रखा है जो कि सच नहीं है, ऐसा इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि हिन्दू ने कभी जबरन सनातन धर्म का प्रचार नहीं किया और न ही फैलाया…. अरे फैलाना तो दूर हिन्दू हमेशा से इतना सर्वगुण संपन्न रहा कि उसे कभी किसी देश को आक्रमण कर लूटने की जरुरत नहीं पड़ी !! तो इसी उपलक्ष्य में, निम्न पोस्ट में ऐसी बातें है जो हरएक हिन्दू को….. इन बातों की जानकारी, जबानी याद रखनी चाहिए :-

 

 

“श्री मद्-भगवत गीता”के बारे में-

ॐ . किसको किसने सुनाई?
उ.- श्रीकृष्ण ने अर्जुन को सुनाई।

ॐ . कब सुनाई?
उ.- आज से लगभग 7 हज़ार साल पहले सुनाई।

ॐ. भगवान ने किस दिन गीता सुनाई?
उ.- रविवार के दिन।

ॐ. कोनसी तिथि को?
उ.- एकादशी

ॐ. कहा सुनाई?
उ.- कुरुक्षेत्र की रणभूमि में।

ॐ. कितनी देर में सुनाई?
उ.- लगभग 45 मिनट में

ॐ. क्यू सुनाई?
उ.- कर्त्तव्य से भटके हुए अर्जुन को कर्त्तव्य सिखाने के लिए और आने वाली पीढियों को धर्म-ज्ञान सिखाने के लिए।

Facts about Sanatana Dharma

 

ॐ. कितने अध्याय है?
उ.- कुल 18 अध्याय

ॐ. कितने श्लोक है?
उ.- 700 श्लोक

ॐ. गीता में क्या-क्या बताया गया है?
उ.- ज्ञान-भक्ति-कर्म योग मार्गो की विस्तृत व्याख्या की गयी है, इन मार्गो पर चलने से व्यक्ति निश्चित ही परमपद का अधिकारी बन जाता है।

ॐ. गीता को अर्जुन के अलावा.. और किन किन लोगो ने सुना?
उ.- धृतराष्ट्र एवं संजय ने

ॐ. अर्जुन से पहले गीता का पावन ज्ञान किन्हें मिला था?
उ.- भगवान सूर्यदेव को

ॐ. गीता की गिनती किन धर्म-ग्रंथो में आती है?
उ.- उपनिषदों में

ॐ. गीता किस महाग्रंथ का भाग है….?
उ.- गीता महाभारत के एक अध्याय शांति-पर्व का एक हिस्सा है।

ॐ. गीता का दूसरा नाम क्या है?
उ.- गीतोपनिषद

ॐ. गीता का सार क्या है?
उ.- प्रभु श्रीकृष्ण की शरण लेना

ॐ. गीता में किसने कितने श्लोक कहे है?
उ.- श्रीकृष्ण जी ने- 574
अर्जुन ने- 85
धृतराष्ट्र ने- 1
संजय ने- 40.

अपनी युवा-पीढ़ी को गीता जी के बारे में जानकारी पहुचाने हेतु इसे ज्यादा से ज्यादा शेअर करे।

Facts about Sanatana Dharma

 

 

33 करोड नहीँ, 33 कोटी देवी देवता हैँ सनातन धर्म मेँ;-

अधूरा ज्ञान खतरना होता है।

कोटि = प्रकार।
देवभाषा संस्कृत में कोटि के दो अर्थ होते है,

कोटि का मतलब प्रकार होता है और एक अर्थ करोड़ भी होता।

हिन्दू धर्म का दुष्प्रचार करने के लिए ये बात उडाई गयी की हिन्दुओ के 33 करोड़ देवी देवता हैं और अब तो मुर्ख हिन्दू खुद ही गाते फिरते हैं की हमारे 33 करोड़ देवी देवता हैं…

कुल 33 प्रकार के देवी देवता हैँ हिँदू धर्म मे :-

12 प्रकार हैँ
आदित्य , धाता, मित, आर्यमा,
शक्रा, वरुण, अँश, भाग, विवास्वान, पूष,
सविता, तवास्था, और विष्णु…!

8 प्रकार हे :-
वासु:, धर, ध्रुव, सोम, अह, अनिल, अनल, प्रत्युष और प्रभाष।

11 प्रकार है :-
रुद्र: ,हर,बहुरुप, त्रयँबक,
अपराजिता, बृषाकापि, शँभू, कपार्दी,
रेवात, मृगव्याध, शर्वा, और कपाली।

एवँ… दो प्रकार हैँ अश्विनी और कुमार।

कुल :- 12+8+11+2=33 कोटी

अगर कभी भगवान् के आगे हाथ जोड़ा है… तो इस जानकारी को अधिक से अधिक… लोगो तक पहुचाएं। ।

हिन्दु हाेने के नाते जानना ज़रूरी है:- 

गायत्री मंत्र में 24 अक्षर होते हैं और वाल्मीकि रामायण में 24,000 श्लोक हैं , और सुखद संयोग कहे या अद्भुत लेखनी , कि रामायण के हर 1000 श्लोक के बाद आने वाले पहले अक्षर से गायत्री मंत्र बनता है ।।

This is very good information for all of us … जय श्रीकृष्ण .. अब आपकी बारी है कि इस जानकारी को आगे बढ़ाएँ तो आपको भी आनंद होगा…..⛳

 

Read More:-

Facts about Sanatana Dharma

 

Ashok Maury, अहिंसक बौद्ध बनना हिन्दुत्व की धार कुंद कर गया

जिहाद by मुंशी प्रेमचंद:- गुमनाम बना दिया…… यह कहानी भी मुंशी प्रेमचंद की ही है 

प्रियंका चोपड़ा स्पेशल, Why girls are more secular then boys

Comments

comments

इस ऑफर का लाभ उठाने के लिए अभी क्लिक करे:-
Loading...