खालसा पंथ के संस्थापक गुरु गोविन्द सिंह के अनमोल विचार

खालसा पंथ के संस्थापक गुरु गोविन्द सिंह के अनमोल विचार
खालसा पंथ के संस्थापक गुरु गोविन्द सिंह के अनमोल विचार

हिम्मत, साहस, जोश और धर्म की राह दिखा कर गए सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोविन्द सिंह थे जिन्होंने खालसा पन्थ की स्थापना किया था, गुरु गोबिंद जी का जन्म 22 दिसम्बर 1666 को बिहार के पटना जिले में हुआ था. इनके पिता जी का नाम गुरु तेगबहादुर था जो सिखों के नौवें दसवें गुरु थे.

  1. हमे सबसे महान सुख और स्थायी शांति तभी प्राप्त हो सकती है जब हम अपने भीतर से स्वार्थ को समाप्त कर देते है
  2. अगर आप केवल भविष्य के बारे में सोचते रहेंगे तो वर्तमान भी खो देंगे.
  3. मेरी बात सुनो जो लोग दुसरे से प्रेम करते है वही लोग प्रभु को महसूस कर सकते है
  4. जब आप अपने अन्दर से अहंकार मिटा देंगे तभी आपको वास्तविक शांति प्राप्त होगी.
  5. मैं उन लोगों को पसंद करता हूँ जो सच्चाई के मार्ग पर चलते हैं.
  6. ईश्वर ने हमें जन्म दिया है ताकि हम संसार में अच्छे काम करें और बुराई को दूर करें.
  7. भगवान स्वय उनके मार्ग बनाते है जो लोग अच्छाई का कर्म करते है
  8. इंसान से प्रेम ही ईश्वर की सच्ची भक्ति है.
  9. उन्ही लोगो का जीवन पूर्ण है जिनके अंदर भगवान के नाम की महसूस करते है
  10. अज्ञानी व्यक्ति पूरी तरह से अँधा होता है वह गहना के मूल्य की सराहना नही करता है बल्कि उसके चकाचौंध की तारीफ करता है
  11. अच्छे कर्मों से ही आप ईश्वर को पा सकते हैं. अच्छे कर्म करने वालों की ही ईश्वर मदद करता है.
  12. स्वार्थ ही अशुभ संकल्पों को जन्म देता है.
  13. जब इंसान के पास सभी तरीके विफल हो जाएं,तब ही हाथ में तलवार उठाना सही है.
  14. जो कोई भी मुझे भगवान कहे, वो नरक में चला जाए.
  15. हर कोई उस सच्चे गुरु की जयजयकार और प्रशंसा करे जो हमें भगवान की भक्ति के खजाने तक ले गया है।

read more :

Comments

comments