Kahani Ek Halala and Rape Pidita Ki

Kahani Ek Halala and Rape Pidita Ki:-

 

शादी का पहला साल सुकून से गुजरा लेकिन इसके कुछ दिन बाद ही औलाद होने पर कलह शुरू हो गई। एक दिन आया जब शौहर ने मारपीट की। फिर तो रोज के झगड़े, मारपीट, तानों से जिंदगी नर्क से बेकार बन गई। नशे के इंजेक्शन लगाए जाने लगे। शादी के तीसरे साल 2011 में मुझे तीन तलाक देकर घर से बाहर निकाल दिया गया। यह दर्द बयां किया ससुर से जबरन निकाह हलाला कराने का आरोप लगाने वाली पीडि़त महिला ने। कहा कि बहुत बदनामी हो गई, अब बस इंसाफ चाहिए।

 

ससुर से निकाह कराया

दैनिक जागरण से बातचीत में पीड़िता ने बताया कि ,,, नशे का इंजेक्शन देकर बदायूं के किसी मौलाना को बुलाकर ससुर से निकाह कराया गया। इस जुल्म तक मैं टूट चुकी थी। मेरे पास कोई रास्ता नहीं था, मजबूरी में मैंने फिर ससुर से हलाला के बाद शौहर से निकाह किया,,, छह साल तक साथ रहे। इस बीच भी औलाद नहीं हुई। ससुराल वालों के जुल्म जारी रहे। 2017 में फिर तलाक दे दिया,,, तीन दिन घर में कैद रखा। मेरी मां मुहल्ले की कुछ औरतों के साथ आईं तब तीसरी बार रखने के लिए देवर के साथ ,,, हलाला की शर्त रख दी गई।

Kahani Ek Halala and Rape Pidita Ki

 

निदा मिलीं तो दर्ज हुआ मुकदमा

दोबारा तलाक के बाद मैं मुकदमा कराने के लिए चार महीने भटकती रही,,,, पुलिस ने नहीं सुनी। मुझे किसी ने बताया कि निदा खान तलाकशुदा औरतों की मदद करती हैं। मैं उनके पास पहुंची। वह थाने लेकर गईं,,, मुकदमा दर्ज कराया। रिश्तेदारों ने मना किया कि ससुर के साथ हलाला का जिक्र न करना। बदनामी होगी।

रसूले पाक की शरीयत पर कायम

मुझसे तलाक, हलाला का सुबूत मांगा जा रहा है। मेरेपूर्व शौहर कहते कि मैंने तलाक नहीं दिया,,, इस सूरत में अगर मैं शौहर के साथ रहने लगूं, तो यह सबसे बड़ा गुनाह होगा। तलाक के बाद बीवी शौहर पर हराम हो जाती है,,, कौन उलमा इस गुनाह की जिम्मेदारी लेंगे। मैं शरीयत पर कायम हूं, इसलिए मैंने कबूला कि मेरा तलाक हुआ है। इस्लाम ने औरत को यह हक दिया है। शरीयत के खिलाफ नहीं हूं बल्कि इसकी आड़ में जो गलत हुआ उसके खिलाफ मुंह खोला ।

Kahani Ek Halala and Rape Pidita Ki

 

भाई-रिश्तेदारों ने फेरा मुंह

मेरे दो भाई नाराज हैं। रिश्तेदारों ने मुंह फेर लिया। सिर्फ बहन का सहारा है,,, घर से निकलते ही ताने मिलते हैं कि शरीयत को बदनाम कर दिया। कोई मेरा दर्द नहीं समझता कि,,, मैं कैसे जी रही हूं? मैं सिले हुए कपड़ों की तुरपाई करती हूं। एक सूट के सात रुपये मिलते हैं। राशन कार्ड बना था। उससे अनाज मिल जाता,,,इस बार राशन भी नहीं लाई। कर्ज लेकर मुकदमा लड़ रही हूं। क्या खाऊंगी? कैसे न्याय का खर्च उठाऊंगी? इस घुटन में जीना मुश्किल है। पर अब मैं हार नहीं मानूंगी। इंसाफ लेकर रहूंगी

Read More:-

Kahani Ek Halala and Rape Pidita Ki

 

BHU VS JAMIA AND AMU UNIVERSITY FOR HINDUS

KASHMIR AND DEMOCRACY कश्मीर की धर्म आधारित आजादी की मांग जायज है?

Comments

comments

इस ऑफर का लाभ उठाने के लिए अभी क्लिक करे:-
Loading...