शायरी का खुदा माने जाने वाले शायर मीर तकी मीर की शायरी

शायरी का खुदा माने जाने वाले शायर मीर तकी मीर की शायरी
शायरी का खुदा माने जाने वाले शायर मीर तकी मीर की शायरी

उर्दू के महान शायरों में मीर तकी मीर का नाम बड़े ही अदब से लिया जाता है मीर की शायरी किसी को भी अपना मुराद बना लेती है इसलिए उनको शायरी का खुदा कहा गया., उनकी शायरी दिल में उतर जाती है और लोगों को काफी पसंद आती है आज हम आपके लिए बेहतरीन शायरी में से कुछ शायरी लेकर आये है…

  1. उल्टी हो गईं अब सब तदबीरें कुछ न दवा ने काम किया
    देखा इस बीमारी-ए-दिल ने आख़िर सबका काम तमाम किया
  2. राह-ए-दूर-ए-इश्क़ में रोता है क्या तुम
    आगे आगे देखिए होता है क्या यहां
  3. आग थे इब्तिदा-ए-इश्क़ में हम अब
    अब जो हैं ख़ाक इंतिहा है ये अब
  4. ब तो जाते हैं बुत-कदे से ‘मीर’
    फिर मिलेंगे हाँ अगर ख़ुदा लाया
  5. दिल की वीरानी का अब क्या मज़कूर है
    ये नगर सौ मर्तबा लूटा गया
  6. नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिए
    पंखुड़ी इक गुलाब की सी ही है
  7. पत्ता पत्ता बूटा बूटा हाल हमारा जाने है
    जाने न जाने गुल ही न जाने बाग़ तो सारा जाने है
  8. शाम से कुछ बुझा सा रहता हूँ
    दिल हुआ है चराग़ मुफ़्लिस का
  9. याद उस की इतनी ख़ूब नहीं ‘मीर’ बाज़ आ
    नादान फिर वो जी से भुलाया न जाएगा
  10. बारे दुनिया में रहो ग़म-ज़दा या शाद रहो
    ऐसा कुछ कर के चलो याँ कि बहुत याद रहो
  11. इश्क़ इक ‘मीर’ भारी पत्थर है
    कब ये तुझ ना-तवाँ से उठता है
  12. होगा किसी दीवार के साए में पड़ा ‘मीर’
    क्या काम मोहब्बत से उस आराम-तलब को
  13. हम हुए तुम हुए कि ‘मीर’ हुए
    उस की ज़ुल्फ़ों के सब असीर हुए
  14. कोई तुम सा भी काश तुम को मिले
    मुद्दआ हम को इंतिक़ाम से है
  15. हमारे आगे तिरा जब किसू ने नाम लिया
    दिल-ए-सितम-ज़दा को हम ने थाम थाम लिया
  16. बेवफ़ाई पे तेरी जी है फ़िदा
    क़हर होता जो बा-वफ़ा होता
  17. मत सहल हमें जानो फिरता है फ़लक बरसों
    तब ख़ाक के पर्दे से इंसान निकलते हैं
  18. दिखाई दिए यूँ कि बे-ख़ुद किया
    हमें आप से भी जुदा कर चले

read more :

जन्मदिन विशेष : कॉमेडी किंग कादर खान की रोचक तथ्य

Comments

comments