Story of every man, जीवन में 45 पार का मर्द
Story of every man, जीवन में 45 पार का मर्द

Story of every man, जीवन में 45 पार के हर गरीब मर्द की जिदगी को बयाँ करती कविता:-

जीवन में 45 पार का मर्द *कैसा होता है ?

 

थोड़ी सी सफेदी कनपटियों के पास,
खुल रहा हो जैसे आसमां बारिश के बाद,

जिम्मेदारियों के बोझ से झुकते हुए कंधे,
जिंदगी की भट्टी में खुद को गलाता हुआ,

अनुभव की पूंजी हाथ में लिए,
परिवार को वो सब देने की जद्दोजहद में,
जो उसे नहीं मिल पाया था,

Story of every man

 

समय की धारा में बस बहे जा रहा है,
*बीवी और प्यारे से बच्चों में*

पूरा दिन दुनिया से लड़ कर थका हारा,
घर आता है रात को, तलाश में सुकून की,

लेकिन क्या मिल पाता है सुकून उसे ?
दरवाजे पर ही तैयार हैं बच्चे,

पापा से ये मंगाया था, वो मंगाया था,
नहीं लाए तो क्यों नहीं लाए,
लाये तो ये क्यों लाये वो क्यों नहीं लाये,

अब वो क्या कहे बच्चों से,
कि जेब में पैसे थोड़े कम थे,

कभी प्यार से, कभी डांट कर,
समझा देता है उनको,

आँख के कोने में, एक बूंद आंसू की जमी रह जाती है,

लेकिन दिखती नहीं बच्चों को,
जब वो खुद, बन जाएंगे माँ बाप अपने बच्चों के, उस दिन दिखेगी उन्हें,

खाने की थाली में दो रोटी के साथ,
परोस दी हैं पत्नी ने दस चिंताएं,

Story of every man

 

*कभी,*

तुम्हीं नें बच्चों को सर चढ़ा रखा है,
कुछ कहते ही नहीं,

*कभी,*

हर वक्त डांटते ही रहते हो बच्चों को,
कभी प्यार से बात भी कर लिया करो,

लड़की सयानी हो रही है,
तुम्हें तो कुछ दिखाई ही नहीं देता,

लड़का हाथ से निकला जा रहा है,
तुम्हें तो कोई फिक्र ही नहीं है,

पड़ोसियों के झगड़े, मुहल्ले की बातें,
शिकवे शिकायतें दुनिया भर की,

सबको पानी के घूंट के साथ,
गले के नीचे उतार लेता है,

जिसने एक बार हलाहल पान किया,
वो सदियों नीलकंठ बन पूजा गया,

यहाँ रोज़ थोड़ा थोड़ा विष पीना पड़ता है,
जिंदा रहने की चाह में,
फिर लेटते ही बिस्तर पर,
मर जाता है एक रात के लिए,

*क्योंकि*

सुबह फिर जिंदा होना है,
काम पर जाना है,
कमा कर लाना है,
ताकि घर चल सके,….ताकि घर चल सके…..ताकि घर चल सके।।।।

*दिल से सभी पिताओं को समर्पित Manish Arya

Story of every man

Read more:-

श्री कृष्णा के जन्मदिवस पर बेहतरीन कविता

अखिलेश चालीसा – लो भाई मुख्यंमंत्री अखिलेश भैय्या चालीसा भी आ गया

Comments

comments

loading...