सनराइजर्स हैदराबाद को एलिमिनेटर मैच में हराने के बाद दिल्ली कैपिटल्स का सामना दूसरे क्वालिफायर में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रही चेन्नई सुपरकिंग्स से होगी। दूसरे क्वालिफायर में जीतने वाली टीम का सामना 12 मई को हैदराबाद में मुंबई इंडियंस से फाइनल में होगा। दिल्ली कैपिटल्स और चेन्नई सुपर किंग्स का सामना शुक्रवार को शाम 7.30 बजे से विशाखापट्टनम के डॉ. वाई राजशेखरेड्डी एसीए-वीडीसीए क्रिकेट स्टेडियम में होगा।

दिल्ली की टीम के लिए चेन्नई के खिलाफ जीत दर्ज करना आसान नहीं होगा, क्योंकि सुपरकिंग्स ने ही दिल्ली को चेपक पर 80 रन से शिकस्त देकर अंक तालिका में शीर्ष दो स्थान हासिल करने से रोक दिया था और अब फिर क्वालिफायर दो में एमएस धोनी की टीम उसकी राह में खड़ी है। क्वालिफायर 2 में दिल्ली की टीम सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ जीत दर्ज कर यहां पहुंची है, जबकि चेन्नई की टीम क्वालिफायर 1 में मुंबई इंडियंस के खिलाफ हारकर यहां पहुंची है।

दिल्ली कैपिटल्स और चेन्नई सुपर किंग्स के बीच अब तक आईपीएल में 20 मैच खेले गए हैं। अब तक आईपीएल में ज्यादातर मौकों पर चेन्नई की टीम दिल्ली पर भारी पड़ी है और धोनी की टीम ने 14 मुकाबले जीते हैं, जबकि 6 मौकों पर दिल्ली ने उसे मात दी है।

लीग राउंड में चेन्नई की टीम दोनों मुकाबलों में दिल्ली पर भारी पड़ी थी और दोनों ही मैचों में उसे मात दिया था। चेन्नई ने दिल्ली को पहले मैच में 6 विकेट से हराया था। उस मैच में दिल्ली ने पहले बैटिंग करते हुए 6 विकेट पर 147 रन बनाए थे और चेन्नई ने लक्ष्य को 19.4 ओवर में चार विकेट गंवाकर हासिल कर लिया था। वहीं दूसरे मैच में चेन्नई की टीम ने दिल्ली को 80 रनों से हराया था। अपने होम ग्राउंड पर चेन्नई ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 4 विकेट पर 179 रनों का स्कोर खड़ा किया था और दिल्ली की टीम को 16.2 ओवर में 99 के कुल स्कोर पर ढ़ेर कर दिया था।

बुधवार को एलिमिनेटर में अंतिम ओवरों के तनावपूर्ण क्षण में मिली जीत में दिल्ली कैपिटल्स के स्टार खिलाड़ी ऋषभ पंत ने अहम भूमिका अदा की, जिससे टीम का मनोबल बढ़ा होगा। हालांकि वह टीम के लिए मैच फिनिश नहीं कर सके, जिससे उन्हें इसकी आलोचना का सामना भी करना होगा। लेकिन दूसरा क्वालिफायर मैच विजयी पारी खेलकर आलोचकों को चुप कराने के लिए उन्हें बेहतर मंच प्रदान करेगा।

एक अन्य युवा खिलाड़ी पृथ्वी शॉ ने 56 रन की अर्धशतकीय पारी से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और पिछली तीन पारियों में कम स्कोर बनाने के बाद टीम के लिए अच्छा योगदान करके वह खुश होंगे। दिल्ली की टीम विशाखापट्टनम में पहले ही एक मैच (एलिमिनेटर) खेल चुकी है तो उसे यहां की परिस्थितियों को बेहतर तरीके से जानने का फायदा मिलेगा।

दिल्ली कैपिटल्स के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट और इशांत शर्मा ने कागीसो रबादा की अनुपस्थिति में अच्छा प्रदर्शन किया है और कीमो पॉल ने उनका अच्छा साथ निभाते हुए एलिमिनेटर में तीन विकेट हासिल किए। अनुभवी स्पिनर अमित मिश्रा फिर से किफायती रहे और उन्होंने एक विकेट भी प्राप्त किया। टीम के बल्लेबाज भी राहत की सांस लेंगे कि उन्हें इमरान ताहिर और हरभजन सिंह की फिरकी का सामना चेन्नई में टर्न लेती पिच पर नहीं करना होगा, लेकिन फिर भी इनसे निपटना उनके लिए चुनौतीपूर्ण होगा। हालांकि टीम एलिमिनेटर में खेलकर आगे के मुश्किल मुकाबले के लिए निश्चित रूप से तैयार हो गयी होगी।

दूसरी ओर चेन्नई सुपरकिंग्स इस तरह के बड़े मैचों में खेलने की आदी है, वह तीन बार इस खिताब को जीतने के अलावा चार बार उप विजेता रह चुकी है। टीम को हालांकि क्वालिफायर एक में मुंबई इंडियंस से शिकस्त झेलनी पड़ी, लेकिन वह स्टाइल में वापसी करेगी। मुंबई इंडियंस के खिलाफ निराशाजनक प्रदर्शन के बाद धोनी अपने बल्लेबाजों से सुधरे प्रदर्शन की उम्मीद करेंगे।

सलामी बल्लेबाज शेन वॉटसन 23 अप्रैल को सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 53 गेंद में 96 रन की पारी खेलने के बाद ज्यादा रन नहीं जुटा सके हैं। टीम के करिश्माई कप्तान ने स्वीकार किया था कि मुंबई इंडियंस के खिलाफ घरेलू मैच में वे पिच के हालात को समझ सकते थे और उन्होंने अपने बल्लेबाजों को शॉट चयन के बारे में ताकीद भी किया।

दोनों टीमें इस प्रकार हैं –

चेन्नई सुपर किंग्स : एमएस धोनी (कप्तान और विकेटकीपर), सुरेश रैना, फाफ डु प्लेसिस, मुरली विजय, शेन वॉटसन, रवींद्र जडेजा, मिशेल सैंटनर, डेविड विली, ड्वेन ब्रावो, केदार जाधव, अंबाती रायुडू, सैम बिलिंग्स, हरभजन सिंह, दीपक चाहर, केएम आसिफ, लुंगी एंगीडी, इमरान ताहिर, कर्ण शर्मा, ध्रुव शोरे, एन जगादीसन, शार्दुल ठाकुर, मोनू कुमार, चैतन्य विश्नोई, मोहित शर्मा, रितुराज गायकवाड़।

दिल्ली कैपिटल्स : श्रेयस अय्यर (कप्तान), पृथ्वी शॉ, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), मनजोत कालरा, कोलिन मुनरो, क्रिस मॉरिस, जयंत यादव, राहुल तेवतिया, हर्षल पटेल, अमित मिश्रा, कागीसो रबादा, ट्रेंट बोल्ट, संदीप लामिछाने, आवेश खान, शिखर धवन, कोलिन इनग्राम, अक्षर पटेल, हनुमा विहारी, शेरफाने रदरफोर्ड, इशांत शर्मा, कीमो पॉल, जलज सक्सेना, अंकुश बैंस, नाथू सिंह, बंडारू अयप्पा।

Comments

comments