विश्वास के ऊपर शायरी, किसी पर भरोसा करो तो

ऐसी शायरी की करने लोगे याद बेहतरीन विश्वास के ऊपर शायरी 
ऐसी शायरी की करने लोगे याद बेहतरीन विश्वास के ऊपर शायरी 

जिन्दगी में हर किसी पर विश्वास जल्दी नहीं होता और अगर किसी पर विश्वास हो भी जाता है और जब वो टूटता है तो इन्सान को काफी तकलीफ होती है , आज हम आपके लिए लाये है बेहतरीन विश्वास के ऊपर शायरी: 

1.तोङ कर जोङ लो चाहे
हर चीज़ दुनिया की…
सव कुछ काबिल ए मरम्मत है..
एैतबार के सिवा…

विश्वास के ऊपर शायरी

2.दुनिया को नफरत का यकीन नहीं दिलाना पङता,
मगर लोग मोहब्बत का सबूत ज़रूर मॉगते हैं…

3.हम समझदार भी इतने हैं कि उनका झूठ पकङ लेते हैं
आैर उनके दीवाने भी इतने हैं फिर भी यकीन कर लेते हैं

4.जिस नज़ाकत से लहरें पैरों को छूती हैं…
यकीन नहीं होता इन्होने भी कश्तीयाॅ ङुबाई होंगी…

5.रख भरोसा खुद पर क्यो ढूॅढता है फरिश्ते
पंछीअो के पास कहॉ होते है नक्शे फिर भी ढूॅढ लेते है रास्ते

6.कीमत पानी की नहीं, प्यास की होती है
कीमत मौत की नहीं, सॉस की होती है
प्यार तो बहुत करते हैं दुनिया में पर
कीमत प्यार की नहीं विश्वास की होती है

7.मौत पर भी यकीन है उस पर भी एतबार है,
देखते हैं पहले कौन आता है दोनो का इंतज़ार है…

8.वो अक़्लमंद कभी जोश में नहीं आता,
गले तो मिलता है, आगोश में नहीं अाता

9.भरोसा क्या करना गैरों पर,
जब गिरना और चलना है अपने ही पैरों पर.

10.अाज तक बहुत भरोसे टूटे
मगर भरोसे की आदत नहीं छूटी..

11.लङकों की हँसी और
कुत्ते की ख़ामोशी
पर कभी भरोसा नही करना चाहिए…

12.भरोसा खुद पर रखो तो ताकत बन जाती है,
और दूसरों पर रखो तो कमजोरी बन जाती है।

13.सिखा दिया दुनिया ने मुझे अपनों पे भी शक करना
मेरी फ़ितरत में तो था गैरों पे भरोसा करना.

विश्वास के ऊपर शायरी

14.खुशियाँ मिलती नहीं मांगने से,
मंजिल मिलती नहीं राह पर रुक जाने से,
भरोसा रखना खुद पर और उस रब पर,
सब कुछ देता है वो सही वक्त आने पर…

15.किसी पर भरोसा करो तो आखिरी सांस तक करो,
या तो एक सच्चा दोस्त पाओगे या तो एक अच्छी शिक्षा…

read more :

Comments

comments