इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का फाइनल मैच रविवार को यानी आज हैदराबाद के राजीव गांधी इंटरनेशनल स्टेडियम में चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) का मुकाबला मुंबई इंडियंस (MI) से होने वाला है। इस मैच के लिए दोनों टीमों ने अपनी कमर कस ली है।

इस मैच के लिए टॉस को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा हैं। दरअसल, ऐसे बड़े मैच में टॉस एक महत्वपूर्म भूमिका निभाता है। आइपीएल फाइनल का टॉस से एक खास नाता रहा है। टॉस जीतने वाली टीम अक्सर ट्रॉफी भी उठाती है। ऐसे में दोनों टीम टॉस जरूर जीतना चाहेंगी।

आइपीएल फाइनल को देखें, तो आपको समझ में आ जाएगा कि टॉस कितना महत्वपूर्ण है।
अबतक खेले गए 11 फाइनल में 7 बार ऐसा हुआ जब टॉस जीतने वाली टीम ने ट्राफी भी उठाई है। तीन सीजन, जिसमें चेन्नई विजेता बनी, टॉस भी उनके पक्ष में गिरा है। वहीं दोबार ऐसे हुआ जब टॉस और फाइनल दोनों ही मुंबई के पक्ष में गए हो।

कोलकता और राजस्थान भी एक-एक बार टॉस जीतकर ट्रॉफी उठाई है। चेन्नई ने अबतक किसी भी फाइनल में टॉस गंवाकर मैच नहीं जीता है। ऐसे में टॉस चेन्नई के लिए बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है।

हालांकि, इस सीजन में हैदराबाद का मैदान टॉस का मामले में एकदम उल्टा है। यहां टॉस हारने वाली टीम इस सीजन में ज्यादा फायदे में रही है। इस सीजन में खेले गए कुल सात मैचों में सिर्फ एक बार ऐसा हुआ है जब टॉस जीतने वाली टीम ने मैच भी अपने नाम किया हो। चेन्नई और मुंबई भी यहां टॉस हार चुकी हैं। अब यह देखना रोचक है कि फाइनल में कौन सा आंकड़ा सटीक साबित होता है।

Comments

comments