जानिए आखिर कैसे Xiaomi के को-फाउंडर लेइ जून बने एक सफल और अमीर व्यक्ति
जानिए आखिर कैसे Xiaomi के को-फाउंडर लेइ जून बने एक सफल और अमीर व्यक्ति

आज हम बात करने वाले है चीन की फेमस मोबाइल निर्माता कंपनी Xiamoi (सिओमी/रेडमी) में बारे मे जोकि आज में समय मे दुनिया की 5 नंबर की सबसे बड़ी मोबाइल कंपनी है और इस कंपनी की सबसे अच्छी बात ये है कि इसमें बहुत कम कीमत पर आपको अच्छे-अच्छे फीचर्स देती है तो दोस्तो Xiaomi कंपनी की सफलता की कहानी को शुरू से जानते है।

लेइ जून

16 दिसंबर,1969 से जब “लेइ जून” का चीन में जन्म हुआ था उन्हीने वुहान यूनिवर्सिटी से अपनी पढ़ाई पूरी की और फिर आगे चल कर 1992 में लेइ ने किंगसॉफ्ट में इंजीनियर की पद पर काम किया और उनका काम इतना पसंद आया कि 1998 आते-आते वे उस कंपनी के सीईओ बन गए। फिर आगे चल कर लेइ ने एक ऑनलाइन किताबें बेचना चाहा इसलिए उन्होंने सन 2000 में जोयो.कॉम नाम से वेबसाइट शरू की इस वेबसाइट ने एक दम आसमान की छुआ ओर सन 2004 में इसको अमेज़न.कॉम को 75 मिलियन डॉलर में बेच दिया जोकि उनके लिए काफी अच्छी कीमत थी

फिर लेइ ने कुछ बड़ा करने की सोची उन्होंने खूब रिसर्च की ओर फिर 6 अप्रैल,2010 को सिओमी कंपनी को 7 लोगो के साथ मिल कर शरू किया ओर इस कंपनी को एक सॉफ्टवेयर कंपनी के रूप में शरू किया था जोकि कस्टम रोम बनाती थीफिर आगे चल कर Xiaomi ने मोबाइल बनाने की सोची तो उसने 2011 में अपना पहला फ़ोन रेडमी 1 लॉन्च किया जिसे लोगों ने काफी ज्यादा पसंद किया गया फिर रेडमी 2 एक ओर नया मोबाइल लॉन्च किया जिससे लोगो से काफी अच्छा रेस्पोंस मिला और इसके सिओमी ने 10 मिलियन यूनिट बेचे ओर फिर 2014 तक सिओमी कंपनी की कीमत 45 बिलियन डॉलर पर कर गयी।

Xiaomi का पहला फ़ोन

सिओमी ने इंडिया में 2014 में अपना पहला फ़ोन लॉन्च किया और 2015 में Xiaomi ने एम आई 4i लॉन्च किया जोकि एक बहुत ही लोकप्रिय साबित हुया जिसे फ्लिपकार्ट के माध्यम से ऑनलाइन बेचा गया और इस मोबाइल से सिओमी ने नया रिकॉर्ड बनाया और इसके 1 लाख यूनिट 5 सेकण्ड में बिक गये और उस दिन के बाद सिओमी आसमान की उचाईयो पर पहुँच गया और सिओमी के काफी मोबाइल्स आते रहे और सिओमी का सबसे फेमस मोबाइल रेडमी नोट 4 है जोकि इंडिया में काफी ज्यादा बेचा गया आज के समय लेइ जून चीन के #12 वे सबसे अमीर आदमी है और वे एक सक्सेसफुल बिजनेसमैन है।

READ MORE :

“वीर-बर्बरीक ,कहानी कलियुग के खांटू-श्याम की” Story of Barbarik

Comments

comments